The 2-Minute Rule for पढ़ाई में मन लगये


तां पूरी कर लैंणे दे कि अपणे होंदेयां तेरी वोटी नूं वेख लइये। मैंने समझाया - वेख बेबे, तेनू नूं दा इन्ना ई शौक है तां बिल्लू ते गोलू दोंवां दा वया कर दे। तेरियां दो दो नूंआ तेरी सेवा करन

बेबे बता रही थी कि आजकल दारजी का काम मंदा है। गोलू और बिल्लू मिल कर तीन चार हजार भी नहीं लाते और उसमें से भी

आधे तो अपने पास ही रख लेते हैं। अरदास हो गयी है और कड़ाह परसाद के बाद अब लोग लंगर के लिए बैठने लगे हैं। मुझे हर दूसरे मिनट किसी न किसी बुजुर्ग का

है लेकिन जैसे बहुत खुश भी नहीं नज़र आते। अपना काम करते रहते हैं या इधर उधर निकल जाते हैं और घंटों बाद वापिस आते

कि अब से दीपू का घर में आना जाना छूटे नहीं। कहीं ऐसा न हो कि आज आया है फिर अरसे तक आये ही नहीं। - तो ?

Remain determined. Considered one of the hardest elements of pursuing by way of with a goal, especially in the long run, is keeping motivated. Building achievable subgoals and Student's Success monitoring your progress can equally assistance.

...। - वीर जी, बात सिर्फ आपकी जान की नहीं है, किसी और को भी बली का बकरा बनाया जा रहा है। उसकी तो किसी को परवाह ही

..। - कल रात जब आप नंदू वीरजी के घर गये हुए थे तो बेबे और दारजी बात कर रहे थे। उन्होंने समझा, मैं सो गयी हूं, लेकिन मुझे

न दारजी बदले हैं और न बेबे। देख, तू घबराना नहीं। मैं खुद अपने आंसू रोक नहीं पा रहा हूं लेकिन उसे चुप करा रहा हूं - हो

बातें सोचनी पड़ती हैं, मैं अकेले रहते रहते थक गया था गुड्डी, इसलिए घर वापिस आ गया हूं लेकिन इतना वक्त तो लेना ही चाहिये

तो उन्होंने मेरे कपड़ों, सामान और उन लोगों के लिए लाये सामान से अंदाजा लगा ही लिया होगा कि मैं अब अच्छी खासी जगह पर

बतायेंगे। बाद में दारजी तो कई दिन तक बिफरे शेर की तरह आंगन Goal Setting खूंदते रहे get more info और बात बे बात पर आपको गालियां बकते रहे। करतार सिंह वाला मामला फिलहाल ठप्प पड़ गया है लेकिन जिस को भी पता चलता है कि इस बार भी आप दारजी की जिद के

“इसमें संदेह नहीं कि रामूराम जी निरे हट्टे-कट्टे ही नहीं थे समझदार भी थे। उनके बल और बुद्धि से लोग प्रभावित होते थे। खारिया गाँव में तो उनका पूरा प्रभाव हो गया था। अतिथि सत्कार में भी वे खारिया में

- to integrate your goal setting action program with your weekly responsibilities. And here's the same planner without the colour blocks.

1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15

Comments on “The 2-Minute Rule for पढ़ाई में मन लगये”

Leave a Reply

Gravatar